हिमाचल में 5-7 आतंकवादियों के घुसने की खबर, महज अफवाह

कांगड़ा जिला में पांच से सात संदिग्धों को देखे जाने की सूचना मात्र अफवाह
प्रतीक चित्र

शिमला. हिमाचल के कांगड़ा जिला में पांच से सात संदिग्धों को देखे जाने की सूचना मात्र अफवाह निकली है. इस प्रकार की खबर सोशल मीडिया व कई अन्य माध्यमों से दिखाई जा रही थी. जिसमें दावा किया जा रहा था कि पांच से सात संदिग्धों को पठानकोट से हिमाचल की एक बस में एक छात्र द्वारा देखा गया है. हाल ही में पंजाब के पांच से सात आतंकवादियों के घुसने को लेकर अर्लट जारी किया गया था.

हिमाचल पुलिस के उत्तरी रेंज के डीआईजी अतुल फुलजले ने बताया कि इन पांच से सात संदिग्धों की पठानकोट से बस लेकर धर्मशाला आने को लेकर प्रदेश व केन्द्र की इंटेलिजेंस एंजेसियों को ओर से काई भी अलर्ट नहीं आया है. अभी तक किसी भी सुरक्षा एंजेसी ने इसकी पुष्टि नहीं की है. इस खबर को ऐसे फैलाया जा रहा है जिससे लोगों में भय का माहौल पैदा हो. पुलिस विभाग बिना तथ्यों के निराधार खबर को फैलाए जाने वालों के खिलाफ कानूनी कार्यवाही करने के बारे में विचार कर ही है.

डीआईजी अतुल फुलजले ने बताया पुलिस उन न्यूज पोर्टल को कानूनी नोटिस देने की संभावनाओं को टटोल रही है जिन्होंने सुरक्षा एंजेसी का हवाला देकर यह झूठी खबर चलाई है. साथ में यह भी पता लगाया जा रहा है कि किस एजेंसी ने इसकी प्रमाणिकता की है.

ये भी पढ़ें- लगता है जंगल में छुप गए वो नकली पुलिस वाले, डर बरकरार

पंजाब के अमृतसर में हुए ग्रनेड हमले के बाद प्रदेश में आम अर्लट जारी किया गया था. प्रदेश के सभी इंटर स्टेट बॉर्डर और कांगड़ा, ऊना और चंबा जिलों के बॉर्डर क्षेत्रों व चेक पोस्ट पर कड़ी नजर रखी जा रही है ताकि एंटी सोशल एलीमेंट को प्रदेश में न घुसने दिया जाए. पुलिस ने लोगों से अपील की है यदि किसी संदिग्ध को देखा जाता है तो तुरंत नजदीकी पुलिस थाने में सूचन दी जाए. को अपने जिले का ही नहीं बल्कि पूरे प्रदेश का विकास करवाने की नसीहत दी है. उन्होंने कहा कि जय राम नए नए मुख्यमंत्री बने हैं, उन्हें अपने जिले के अलावा प्रदेश के अन्य जिलों में भी विकास करवाना चाहिए तथा बड़ी योजनाएं व संस्थान अन्य जिलों में भी खुलवाना चाहिए.