आईआईटी मंडी : दुनिया के सबसे प्रतिभावान लोगों के लिए बनेगा आकर्षण का केंद्र

आईआईटी मंडी : दुनिया के सबसे प्रतिभावान लोगों के लिए बनेगा आकर्षण का केंद्र-Panchayat Times
साभार इंटरनेट

मंडी. नई दिल्ली से 460 किमी दूर मंडी के कमांद गांव में उल नदी तट पर 510 एकड़ जमीन पर बनें भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान मंडी ने हिमालय की वादियों में एक महत्वपूर्ण और अनोखा कैंपस तैयार कर लिया है. वर्तमान में इस संस्थान में 1300 विद्यार्थियों, 112 शिक्षकों और स्टाफ के 61 सदस्यों के लिए आवासीय व्यवस्था है.

इसके अतिरिक्त अत्याधुनिक प्रयोगशालाएं, पुस्तकालय, खेल सुविधाएं, अन्य गतिविधियों और पढ़ाई से जुड़ी अतिरिक्त गतिविधियों के लिए पर्याप्त स्थान है. इसमें 750 सीटों का ऑडिटोरियम भी है जो इस इलाके में अभूतपूर्व है. इसमें विशेष आयोजन होने लगे हैं जो पूरी दुनिया के विशेषज्ञों को आकृष्ट करते हैं.

यह संस्थान 2021 तक 2.16 लाख वर्ग मीटर निर्माण का लक्ष्य पूरा करने की दिशा में अग्रसर है ताकि आने वाले समय में 2580 विद्यार्थियों और 270 शिक्षकों और स्टाफ के सदस्यों के लिए आवासीय व्यवस्था सुनिश्चित हो.

डीन इन्फ्रास्ट्रक्चर एवं सर्विसेज, आईआईटी मंडी प्रो. एससी. जैन ने का कहना है कि हम जो कैंपस बना रहे हैं उसका देश के सबसे खूबसूरत कैंपसों में नाम होगा. नदियां, पहाड़ और लोगों की गर्मजोशी के साथ बेहतरीन आवासीय सुविधा, शिक्षा व्यवस्था और सांस्थान की बुनियादी सुविधाएं सब मिल कर आईआईटी मंडी को एक ऐसा संस्थान बनाएंगे जो दुनिया के सबसे प्रतिभावान लोगों के लिए आकर्षण का केंद्र होगा.

आईआईटी मंडी का कंस्ट्रक्शन और मेंटेनेंस प्रभाग निर्माण कार्य की प्रगति पर नजर रखने के लिए वेब-आधारित प्रोजेक्ट मैनेजमेंट टूल का लाभ लेता है. जिसका विकास संस्थान के विद्यार्थियों ने ओपन सोर्स प्लैटफॉर्म के साथ किया है. मेंटेनेंस कार्यों के लिए भी ऑनलाइन टिकेटिंग सिस्टम का उपयोग किया जाता है. आईआईटी मंडी ने नेशनल नॉलेज नेटवर्क फैसिलीटीज की स्थापना समेत 100 से ज्यादा लोगों के लिए सभी शिक्षा ब्लॉक के अंदर वर्चुअल क्लास रूम और कांफ्रेंस हॉल बनवाए हैं. शिक्षा ब्लॉक के अंदर 30 से 300 विद्यार्थियों के लिए बड़े-बड़े क्लासरुम हैं.

उन्होंने ने बताया कि संस्थान का एक मुख्य पुस्तकालय हैं. जिसमें 18,948 पुस्तकें हैं और एक सैटेलाइट लाइब्रेरी है जो पूरी तरह स्वचालित है और रेडियो-फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन आरएफआईडी सक्षम है. इसमें विद्यार्थियों, शिक्षकों और स्टाफ के लिए 20,000 ऑनलाइन संसाधन हैं. भावी योजनओं में 250 विद्यार्थियों के लिए वर्चुअल क्लासरूम और प्रोफेशनल रिकॉर्डिंग स्टुडियो के साथ-साथ तीन कान्फ्रेंस रूम भी शामिल हैं. संस्थान के कई महत्वपूर्ण आगामी प्रोजेक्ट हैं जैसे बोटैनिकल गार्डन से गुजरता 1.6 किमी. का साइकिल ट्रैक, 2-लेन का पुल, जो संस्थान के नॉर्थ और साउथ कैंपस के बीच खूबसूरत पहाड़ी वादियों में परिवहन आसान बनाएगा.

इसके अतिरिक्त खेल, पढ़ाई के साथ अन्य गतिविधियों और अतिरिक्त गतिविधियों को भी महत्व दिया जाएगा. पहले से मौजूद इंडोर बैडमिंट कोर्ट, टेबल टेनिस हॉल, फुटबॉल और क्रिकेट के मैदान और जिमनेजिय़म के अतिरिक्त संस्थान एक अभूतपूर्व पैवेलियन, हॉकी का मैदान कियोस्क के साथ, टेनिस, वालीबॉल और बॉस्केट बॉल के नए कोर्ट बनवाएगा.

संस्थान में पहले से साउथ कैम्पस में एक चिकित्सा केंद्र और नार्थ कैम्पस में स्वास्थ्य केंद्र है. इनमें 3 चिकित्सा अधिकारी, एक ईएनटी विशेषज्ञ और एक शिशु रोग विशेषज्ञ हैं. सामान्य शल्य प्रक्रिया कक्ष, एक सामान्य ऑपरेशन थिएटर और फीजियोथिरैपी सेंटर भी है.