शिमला में पार्किंग नियमों में प्रदेश सरकार करेगी बदलाव

शिमला में पार्किंग नियमों में प्रदेश सरकार करेगी बदलाव-Panchayat Times
साभार इंटरनेट
 शिमला. शिमला सहित प्रदेश के प्रमुख पर्यटक स्थलों में पार्किंग समस्या से निजात दिलाने के लिए सरकार नियमों में बदलाव करेगी. नियमों में बदलाव के बाद आवासीय भवनों के सेट बैक के साथ अस्थायी पार्किंग स्ट्रक्चर बनाने की अनुमति मिलेगी. इससे सड़कों पर खड़े वाहनों से होने वाले ट्रैफिक जाम से भी सैलानियों को निजात मिलेगी.
शिक्षा एवं विधि मंत्री सुरेश भारद्वाज ने अनैपचारिक बातचीत में बताया कि सरकार पार्किंग की समस्या से निजात पाने के लिए नियमों में बदलाव की सोच रही है. एक अन्य सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट में एनजीटी से जुड़े मामले को लेकर सुनवाई अक्तूबर माह में होनी है.उन्होंने उ मीद जताई कि सर्वोच्च न्यायालय से शिमला को राहत मिलेगी.
उल्लेखनीय है कि शिमला के अलावा प्रदेश की तमाम सैरगाहों में हर साल लगभग एक करोड़ सैलानी पहुंचते हैं. सैलानियों की आमद बढ़ने के साथ-साथ प्रदेश के शहरी इलाकों में भी वाहनों की सं या लगातार बढ़ रही है. अकेले शिमला में ही 40 से 50 हजार वाहन हैं. मगर शहरों में पार्किंग की समस्या विकराल है. प्रदेश की भौगोलिक बनावट के मद्देनजर हर घर में पार्किंग संभव नहीं.
शिक्षा एवं विधि मंत्री सुरेश भारद्वाज ने बताया कि नियमों में बदलाव कर सडक़ों के नजदीक बने घरों में सेट बैक के साथ अस्थायी पार्किंग स्ट्रक्चर बनाने की अनुमति देने की योजना है. साथ ही शहरों में पार्किंग भी बनाई जा रही है. शिमला में वार्डों में पार्किंग का निर्माण शुरू हो गया है. इस प्रयास के पीछे मकसद लोगों को ट्रैफिक जाम से निजात दिलाना कर राहत प्रदान करना है.