एएफएसपीए एक्ट को हटाने के वादे से कांग्रेस का असली चेहरा हुआ बेनकाब : कपूर

एएफएसपीए एक्ट को हटाने के वादे से कांग्रेस का असली चेहरा हुआ बेनकाब : कपूर-Panchayat Times
प्रतीक चित्र

धर्मशाला. कांगड़ा-चंबा संसदीय क्षेत्र से भाजपा प्रत्याशी किशन कपूर ने प्रदेश कांग्रेस नेताओं पर हमला बोलते हुए कहा कि उन्होंने किस मकसद के साथ आर्म फोर्स स्पेशल प्रोटेक्शन एक्ट को अपने चुनावी घोषणा पत्र में खत्म करने की बात कही है.

कपूर ने कहा कि एएफएसपीए एक्ट को खत्म करने के चुनावी वादे से कांग्रेस का असली चेहरा बेनकाब हुआ है. शुक्रवार को धर्मशाला में पत्रकार वार्ता के दौरान किशन कपूर ने कहा कि इस एक्ट को वर्ष 1958 में देश के तत्कालीन प्रधानमंत्री पं. जवाहर लाल नेहरु ने नोर्थ ईस्ट में उग्रवाद के चलते लागू किया था तथा जब पंजाब में उग्रवाद फैला तो इस एक्ट को वहां पर भी लागू किया गया.

उन्होंने कहा 1990 में जब जम्मू-कश्मीर में आंतकवादी हमले लगातर होने लगे और आंतकवादियों ने जम्मू-कश्मीर से कश्मीरी पंडितों को वहां से भगाना शुरू किया तो तनावपूर्ण स्थिति को देखते हुए जम्मू-कश्मीर में भी आर्म फोर्स स्पेशल प्रौटेक्शन एक्ट को लागू कर दिया गया.

हिमाचली जेलों में बंद कैदियों का जीवन ऐसे बदल रहा है

कपूर ने कहा कि इस लोकसभा चुनावों में कांग्रेस पार्टी ने अपने चुनावी घोषणा पत्र में इसको शामिल किया है तथा कहा है कि कांग्रेस पार्टी अगर सत्ता में आई तो इस एक्ट को खत्म करेंगे.हिमाचल प्रदेश  कांग्रेस और इसके नेता यह स्पष्ट करे कि इस मुद्दे को लेकर उनका दृष्टिकोण क्या है. यह जानना भी अतिआवश्यक है कि प्रदेश की मुख्य विपक्षी पार्टी इस बारे में क्या सोच रखती है.