हिमाचल में यह जगहें हैं जानलेवा

हिमाचल में यह जगहें हैं जानलेवा

शिमला/नई दिल्ली. हिमाचल में 737 ऐसे स्थान हैं, जहां पर सबसे अधिक दुर्घटनाएं होती हैं. हिमाचल में किए गए एक सर्वे में यह खुलासा हुआ है. इस सर्वे के अनुसार इन 737 स्थानों में से भी 266 ऐसे स्थान हैं, जहां बार-बार सड़क हादसे होते हैं. इसके अलावा 22 स्थान ऐसे हैं जहां सबसे अधिक दुर्घटनाएं होती हैं.

सर्वे के नतीजों के आधार पर यह पता चलता है कि प्रदेश में निम्न स्तर की सड़क सुविधा, गति की अनदेखी, शराब पीकर ड्राइविंग, बिना हेलमेट के बाइक चलाना और और गाडि. गाड़ियों में तय सीमा से अधिक सीट लगाना और सवारियां भरना, ऐसे कारण हैं जो सड़क दुर्घटनाओं को सबसे ज्यादा दावत देते हैं.

फाइल फोटो, साभार इंटरनेट

हिमाचल प्रदेश की भौगोलिक स्थिति एक बड़ी चुनौती है और यहां पर कुछ ऐसे भू-भाग हैं, जिन्हें देशभर में सबसे मुश्किल माना जाता है और यातायात का एकमात्र साधन सड़क परिवहन है. ऐसे में सड़क दुर्घटना के समय उपयुक्त व त्वरित कार्रवाई होनी चाहिए. संयुक्त राष्ट्र ने अपने सतत विकास उद्देश्यों के उत्थान को बनाए रखने के लिए 2020 तक लक्ष्य तय किया है, उसके अंतर्गत विश्व भर में सड़क दुर्घटनाओं में होने वाली मृत्यु और चोटों की दर को आधा करना है. इसी उद्देश्य को ध्यान में रखते हुए जीवीके द्वारा यह सर्वे करवाया गया, ताकि प्रदेश के ऐसे स्थानों को खोजा जा सके, जहां पर सबसे अधिक दुर्घटनाएं होती हैं.

फाइल फोटो, साभार इंटरनेट

इन स्थानों को खोजने के बाद ही यहां पर होने वाले हादसों पर अंकुश लगाए जाने के लिए प्रदेश सरकार आवश्यक कदम उठा पाएगी. सड़क दुर्घटनाएं सबसे ज्यादा सप्ताह के अंत में और शाम के समय 2 से 9 बजे के बीच में होती हैं. महीने के हिसाब से बात की जाए तो मई से अगस्त और दिवाली की छुट्टियों के समय अक्तूबर और नवंबर तक दुर्घटनाओं का ग्राफ बढ़ जाता है. इस सर्वे से यह भी पता चला है कि कि प्रदेश में सड़क दुर्घटनाओं में सबसे ज्यादा 40 प्रतिशत शिकार युवक होते होते हैं.