अब आनलाईन उपलब्ध होंगी परिवहन सेवाएं

धारा 118 को पारदर्शी बनाने के लिए ऑनलाइन होगा सिस्टम : राजस्व मंत्री-Panchayat Times
साभार इंटरनेट

शिमला. राज्य परिवहन विभाग ने आम लोगों को परिवहन सेवाएं देने के लिए वेब आधारित साॅफ्टवेयर तैयार किया है. इस साॅफ्टवेयर के माध्यम से कोई भी व्यक्ति किसी भी स्थान से विभिन्न परिवहन सेवाओं के लिए आनलाईन आवेदन कर सकता है. इस प्रकार उन्हें परिवहन विभाग के कार्यालयों में आने की आवश्यकता नहीं रहेगी. विभाग के एक प्रवक्ता ने सोमवार को बताया कि इस साॅफ्टवेयर के माध्यम से लोगों को घर-द्वार पर विभिन्न परिवहन सेवाओं का लाभ उठाने में सहायता मिलेगी. इसके लिए राज्य सरकार ने लोकमित्र केन्द्रों एवं जन सेवा केन्द्रों को अधिकृत किया है.

उन्होंने बताया कि इस साफ्टवेयर से स्थानांतरण, पता बदलने, पंजीकरण प्रमाण-पत्र की प्रतिलिपि, आरसी में परिवर्तन, वाहनों के रूपांतरण, पंजीकरण के नवीकरण, अनापत्ति प्रमाण-पत्र, स्वस्थता प्रमाण-पत्र, रोड टैक्स अदायगी, स्पेशल रोड टैक्स अदायगी, नए या प्रतिलिपि या नवीनीकरण या विशेष परमिट की सुविधा मिलेगी.

इसके अलावा गृह राज्य अधिकार पत्र, गूड्स नेशनल परमिट, नए या नवीनीकरण या प्रतिलिपि व्यापार प्रमाण-पत्र, परमिट के प्रिंट, लर्नरज लाईसेंस, नए या डुप्लिकेट ड्राईविंग लाईसेंस, ड्राईविंग लाईसेंस में नाम, पता या अन्य इसी अतिरिक्त जानकारी में बदलाव, नए या नवीनीकरण या प्रतिलिपि कंडक्टर लाईसेंस आदि के लिए आवेदन किए जा सकेंगे.प्रवक्ता ने बताया कि लोकमित्र केंद्र इन सेवाओं के लिए आनलाईन आवेदन भरने पर सेवा शुल्क के रूप में 30 रुपये वसूल करेंगे, जबकि परमिट के लिए प्रति पृष्ठ 10 रुपये अतिरिक्त शुल्क देना होगा.