शिमला के मशोबरा में आग में जिंदा जला दो साल का बच्चा

शिमला के मशोबरा में आग में जिंदा जला दो साल का बच्चा-Panchayat Times

शिमला. राजधानी शिमला के मशोबरा में आगजनी की हृदयविदारक घटना में दो साल के मासूम की जलने से मौत हो गई. घटना गुरुवार देर शाम डाक बंगला के समीप स्वाहा गांव की है. नेपाली मूल का शांत बहादुर पत्नी व छह बच्चों के साथ यहां लकड़ी व टीन से बने शेड में रहता है.


दम्पति शिमला में मजदूरी करती है. शाम को दोनों काम पर से घर नहीं लौटे थे. घर में मौजूद उनके बच्चे आपस में खेल रहे थे. इसी बीच खेल-खेल में आग लग गई. शेड में आग तेजी से फैली और खेल रहे बच्चों ने बाहर निकलकर जान बचाई लेकिन शेड के अंदर सो रहा दो साल का निखिल बहादुर आग से घिर गया.

हादसे की जानकारी मिलते ही मौके पर ग्रामीणों की भीड़ जुट गई और उन्होंने आग पर काबू पाने का प्रयास किया. मगर शेड को खाक होने से नहीं रोक पाए. दिहाड़ी लगाने के बाद मासूम के माता-पिता जब शेड में लौटे, तो उनके पैरों की जमीन खिसक गई.


आग से खाक हुए शेड के साथ मासूम बच्चा भी जिंदा जल चुका था. इस घटना से उन पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है. शव के अवशेष को पोस्टमार्टम के लिए आईजीएमसी लाया गया है. जिला पुलिस अधीक्षक ओमा पति जंबाल ने शुक्रवार को बताया कि आगजनी के इस मामले में दो वर्षीय बालक की मौत हुई है। आगजनी के कारणों की पड़ताल की जा रही है.

इस बीच, बीती रात 2 बजे राजधानी के उपनगर समरहिल में आगजनी की अन्य घटना में एक भोजनालय और दो सब्जी की दुकानें खाक हो गई. गनीमत रही कि इस दौरान कोई हताहत नहीं हुआ. दुकानों के खाक होने से 90 हज़ार के नुकसान का अनुमान है.


उल्लेखनीय है कि शिमला जिला में विगत एक माह में आगजनी की अनेक घटनाएं हो चुकी हैं. गत दिनों शहर के जाखू क्षेत्र में छह शेड आग की भेंट चढ़े थे और एक महिला बुरी तरह झुलस गई थी. इससे पहले अप्पर शिमला के चिड़गांव में दो गांवों में भीषण अग्निकांड की अलग-अलग घटनाओं में 18 घर राख हुए थे, जिसमे दो लोगों की जान गई थी.

माध्यमPT DESK
शेयर करें