लखनऊ में ट्विटर पर “वाद विवाद संवाद” कार्यक्रम

ट्विटर और सोशल मीडिया मैटर्स ने मिलकर लखनऊ में एक खास...- Panchayat Times

नई दिल्ली. ट्विटर और सोशल मीडिया मैटर्स ने मिलकर लखनऊ में एक खास बातचीत का कार्यक्रम ऑर्गनाइज किया, जिसका नाम रखा गया “वाद विवाद संवाद”. कार्यक्रम में युवाओं, समाजिक संगठनों, पुलिस और राजनेताओं को एक साझा मंच दिया गया. इस “वाद विवाद संवाद” का मुख्य उद्देश्य था सोशल मीडिया पर एक सार्थक बहस हो, जिससे युवाओं की सोच क्या है वो पता लग सके. वहीं राजनेता भी युवाओं के लिए क्या योजनाएं बनाए हुए हैं ये भी मालूम हो सके.

कार्यक्रम में कई गणमान्य लोगों को बुलाया गया था

ये एक सोच फाउंडेशन के संस्थापक शरीक अहमद; राइज वॉक फाउंडेशन के संस्थापक समीना बानो यूपी पुलिस में मीडिया और तकनीकी सेवाओं के पुलिस अधीक्षक राहुल श्रीवास्तव; लखनऊ विश्वविद्यालय से समाजशास्त्र विभाग के एचओडी डॉ. डी.आर.साहू, भाजपा प्रवक्ता समीर सिंह, कांग्रेस से सदफ जाफ़र; समाजवादी पार्टी से अब्दुल हफीज़ गाँधी, आम आदमी पार्टी से वैभव माहेश्वरी और भाजपा से राकेश त्रिपाठी इस वार्ता का हिस्सा बने. वहीं वीडियो द्वारा बसपा से सुधींद्र भदौरिया कार्यक्रम का हिस्सा बने.

 

ट्विटर और सोशल मीडिया मैटर्स ने मिलकर लखनऊ में एक खास...- Panchayat Times

इस कार्यक्रम में सौ से अधिक युवाओं ने भाग लिया. युवाओं ने इस कार्यक्रम के दौरान सैकड़ों ट्विट्स भी किए. वहीं राजनेताओं ने बताया कि वो युवाओं के लिए क्या विचार रखते हैं. और उनके एजेंडे में युवाओं का कितना हिस्सा है. इस कार्यक्रम के पार्टनर आर्गनाइजेशन “सोशल मीडिया मैटर्स” के फाउंडर अमित कुमार ने बताया कि “हर राजनीतिक चर्चाओं में मीडिया का अहम रोल होता है. पर हम यहां राजनीतिक चर्चाओं में देश के सबसे महत्वपूर्ण घटक युवाओं को शामिल कर रहे हैं. ट्विटर ने राजनीति को एक नयी दिशा दे दी है. जिसमें सब कोई अपनी बात रख सकते है. सबकी बात जरूरी हो गई है. इसलिए ये जरूरत है कि अब हम इंटरनेट पर अदब के साथ अपने विचार रखें ताकि उसपर लोग ध्यान दें और राजनेताओं तक भी हमारी बात पहुंच सके.” बता दें कि सोशल मीडिया मैटर्स दिल्ली की एक एनजीओ है, जो सोशल मीडिया के बारे में युवाओं को जागरूक करती है.

ट्विटर और सोशल मीडिया मैटर्स ने मिलकर लखनऊ में एक खास...- Panchayat Times

 

महिमा कौल जो ट्विटर इंडिया की पब्लिक पॉलिसी की प्रमुख हैं उन्होंने कहा कि “हम ऐसे समय में रहते हैं जहां डिजिटल बातचीत से दूर रह पाना मुश्किल है. हर दिन, देश भर में लोग राजनीतिक उम्मीदवारों और पत्रकारों की बात सुनने के लिए ट्विटर का उपयोग करते हैं, उन मुद्दों पर अपने समुदाय के साथ जुड़ते हैं जिनके बारे में वे जानना चाहते हैं, और उन तरीकों के बारे में सीखते हैं जिससे वे लोकतांत्रिक प्रक्रिया में शामिल हो सकते हैं. जैसा कि हम आगामी आम चुनाव के करीब हैं, सोशल मीडिया मैटर्स (@SociallyBlog) के साथ साझेदारी में हम #VaadVivadSamvaad के साथ अधिक स्वस्थ नागरिक वार्तालाप को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध हैं.”