गर्भवती महिला को पुलिस हिरासत में लेने पर भड़के ग्रामीणों ने लगाया जाम

खरसावां. कुचाई के ईचाडीह गांव से गर्भवती महिला, चार साल की बच्ची सहित चार को हिरासत में लेने के बाद स्थिति बिगड़ गई. आसपास के गांव के लोगों ने कुचाई थाना को घेर लिया. मौके पर पांच सौ की संख्या में ग्रामीण पारंपरिक हथियारों के साथ कुचाई थाने को घेर लिया. पुलिस ने नक्सलियों से संबंध होने के शक में चारों को हिरासत में लिया था.

गुस्साये ग्रामीणों ने कुचाई थाना के गेट के सामने सड़क जाम कर दिया. उन्होंने पुलिस के खिलाफ जमकर नारेबाजी की. मौके पर सरायकेला अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी अविनाश कुमार कुमार भी पहुंचे. उन्होंने प्रदर्शन कर रहे ग्रामीणों को समझाने की कोशिश की, लेकिन बात नहीं बनी. मौके पर जिले के अन्य थानों से अधिकारी और जवान भी पहुंचे. अंत में हिरासत में लिए गए सभी लोगों को छोड़ दिया गया. जिसके बाद  ग्रामीणों ने जाम हटाया.

हिरासत से छोड़े जाने के बाद बुधन लाल मुंडा व पगुवा मुंडा ने कहा कि उन्होंने नक्सलियों को सिर्फ खाना खिलाया था. नक्सलियों से उनका कोई संबंध नहीं है. जब जान पर बन आती है तो उन्हें सहयोग करना पड़ता है. लेकिन पुलिस के डर से उन्हें मजबूरी में गुनाह कबूलना पड़ता है.

एएसपी अभियान प्रिय रंजन कुमार ने कहा कि कुचाई के सकराडीह में दो लोगों को नक्सलियों से संबंध होने के शक में गिरफ्तार किया गया था. पुलिस ने गांव के मुंडा को रिहाई के बारे में सूचना दे दी थी इसके बाद उन्हें लेने के लिए ग्रामीण इकठ्ठा हुए थे.

उधर गुमला जिले से पीपुल्स लिबरेशन फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएलएफआई) के एरिया कमांडर और उसके सहयोगी को गिरफ्तार किया गया है. गिरफ्तार एरिया कमांडर संजय महतो उर्फ संतोष टाइगर पर विभिन्न थानों में कई मामले दर्ज हैं. हालांकि पुलिस ने अबतक इसबारे में कोई आधिकारिक बयान जारी नहींं किया है.