ये कैसा विरोध, मारपीट और तोड़फोड़ पर उतर आए ग्रामीण

सुंदरनगर (मंडी). बीते करीब चार दिनों से सुंदरनगर उपमंडल की ग्राम पंचायत जुगाहण के तहत आने वाली धनोटू सब्जी मंडी के पास शराब के ठेके को लेकर जारी विरोध गुरुवार को उग्र हो गया. विरोध कर रहे ग्रामीण मारपीट और तोड़फोड़ पर उतर आए. ठेके के सेल्समैन के साथ मारपीट की गई.

पुलिस की मौजूदगी में शराब के ठेके की शेड को तोड़ दिया गया. अभी तक यही कहा जा रहा है कि शराब का ठेका सरकारी जमीन पर कब्जा करके बनाया गया है. कुछ दिन पहले इस शराब के ठेके में आग लग गई थी और यह जलकर राख हो गया था. आगजनी के अगले ही दिन जब ठेकेदार दोबारा इस ठेके को बनाने यहां पहुंचा तो विरोध शुरू हो गया.

आसपास के गांवों के सेकड़ों लोग इसके विरोध में यहां डटे हुए हैं. ग्रामीणों का कहना है कि उन्हें प्रशासन ने यह आश्वासन दिया था कि नए वित्त वर्ष के दौरान ठेके को बंद कर दिया जाएगा, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. ग्रामीणों का तर्क है कि ठेके से होकर दर्जनों गांवों का रास्ता जाता है. इस कारण गांव की महिलाओं का यहां से गुजरना दूभर होता जा रहा है, क्योंकि शराबी यहां हर वक्त मौजूद रहते हैं.

वहीं ग्रामीणों के विरोध के बाद मौके पर पहुंची आबकारी और कराधान विभाग की ईटीओ शैलजा भी मौके पर पहुंची. उन्होंने कहा कि शराब का ठेका नियमों के तहत खोला गया है. यदि इसका विरोध हो रहा है तो इस संदर्भ में आगामी निर्णय लेने का अधिकार जिला प्रशासन को है.

सुंदरनगर थाना प्रभारी गुरबचन सिंह ने बताया कि मारपीट और तोड़फोड़ करने का अधिकार किसी को नहीं है. इस बारे में मामले की जांच पड़ताल की जा रही है और जो भी दोषी पाया जाएगा उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी.