दिल्ली में भड़की हिंसा, हेड कॉन्स्टेबल सहित सात लोगों की मौत

दिल्ली में भड़की हिंसा, हेड कॉन्स्टेबल सहित सात लोगों की मौत-Panchayat Times
साभार इंटरनेट

नई दिल्ली. नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) के विरोध और समर्थन में लोगों के आमने-सामने आने के कारण रविवार को भड़की हिंसा ने सोमवार को विकराल रूप धारण कर लिया. उत्तर पूर्वी दिल्ली के कई इलाकों में दिनभर पत्थरबाजी, आगजनी और गोलीबारी की घटनाओं में एक हेड कॉन्स्टेबल सहित सात लोगों की मौत हो गई. जबकि 100 से ज्यादा लोग घायल हुए हैं.

हेड कॉन्स्टेबल रतन लाल हुए शहीद

दिल्ली पुलिस के एडिशनल प्रवक्ता अनिल मित्तल ने बताया कि सोमवार देर रात तक हिंसक झड़प के बीच सात लोगों की जान चली गई. इनमें एक हेड कॉन्स्टेबल रतन लाल शहीद हो गए, जबकि छह अन्य मृतकों में शाहिद, मो. फुरकान, राहुल सोलंकी, नजीम, मंगल और विनोद हैं. दमकल विभाग के निदेशक अतुल गर्ग के अनुसार सोमवार को विभिन्न जगहों से आगजनी की 45 कॉल मिली थी और इस घटना में दमकल के भी तीन कर्मचारी घायल हो गए हैं.

उल्लेखनीय है कि सोमवार को उत्तर पूर्वी दिल्ली के भजनपुरा, गोकलपुरी, ब्रह्मपुरी, जाफराबाद, मौजपुर, चांद बाग आदि इलाकों में जबरदस्त हिंसा देखने को मिली थी. यहां लोगों ने जमकर पथराव और आगजनी की. कई जगह गोली भी चलाई गई. एक शख्स का वीडियो भी वायरल हुआ था. वह पुलिस पर गोलियां चला रहा था. उसकी पहचान शाहरुख के रूप में हुई है. पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है. घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

लोगों से शांति बनाए रखने की अपील :

पुलिस के साथ रैपिड एक्शन फोर्स को पूरे इलाके में तैनात किया गया है. लोगों से शांति बनाए रखने की लगातार अपील की जा रही है. पुलिस अमन कमेटी के लोगों से भी संपर्क कर रही है.

आगजनी की 45 कॉल मिली:

दमकल विभाग के निदेशक अतुल गर्ग के अनुसार सोमवार को विभिन्न जगहों से आगजनी की 45 कॉल मिली थी. इनमें दमकल कर्मचारियों ने आग बुझाने की जब कोशिश की तो उनके ऊपर भी हमला किया गया. दमकल की एक गाड़ी को पूरी तरीह से क्षतिग्रस्त कर दिया गया. साथ ही तीन दमकल कर्मचारी भी घायल हुए हैं.

दिल्ली पुलिस ने हिंसा को देखते हुए विशेष सेल, अपराध शाखा और आर्थिक अपराध शाखा (ईओडब्ल्यू) के अधिकारियों के साथ उत्तर पूर्वी दिल्ली में अर्धसैनिक बलों की 35 कंपनियां तैनात की गई हैं. दिल्ली के विभिन्न जिलों से स्थानीय पुलिस को भी बुलाया गया है.