वस्त्र उद्योग में 80 प्रतिशत नौकरी महिलाओं को : रघुवर दास

वस्त्र उद्योग में 80 प्रतिशत नौकरी युवतियों को : रघुवर दास-Panchayat Times

रांची. सीएम रघुवर दास ने कहा कि सरकार की नीयत और नीति दोनों अच्छी है. यहां कुशल मानव संसाधन हैं. इसके बदौलत झारखंड में निवेशक आ रहे हैं. वर्तमान सरकार यहां के युवाओं को बढ़ते क्रम में रोजगार उपलब्ध कराने में सक्षम हो रही है. झारखंड में गुणवत्ता युक्त वस्तुओं का निर्माण कर उसे निर्यात करना है, क्योंकि किसी भी राज्य व देश की अर्थव्यवस्था को यह काफी हद तक निर्धारित करता है. सीएम गुरुवार को रांची के बुढ़मू स्थित चकमें में लगुना टेक्सटाइल प्लांट के शिलान्यास समारोह में बोल रहे थे.

सरकार ने आर्थिक व्यवस्था को सुदृढ़ करने का किया प्रयास

2014 के बाद राज्य की आर्थिक व्यवस्था को सुदृढ़ करने का प्रयास सरकार ने किया. यहां के युवाओं को हुनरमंद बनाकर रोजगार से आच्छादित करने के अथक प्रयास हुए. इस प्रयास को अमलीजामा पहनाने के लिए 2015 में उद्योग स्थापना के लिए कई नीतियां बनाई गई. बुढ़मू में तीन उद्योग इकाइयों का शिलान्यास हो रहा है, इससे क्षेत्र के 20 हजार हुनरमंद युवाओं को उनके गांव में ही रोजगार मिलेगा. यही नहीं आने वाले दिनों में इस क्षेत्र में अन्य यूनिट को प्रारंभ किया जाएगा, जिससे करीब 40 हजार लोग अपने ही गांव में रोजगार से आच्छादित होंगे. टेक्सटाइल और फुटवियर के क्षेत्र में झारखंड को हब बनाना है. वस्त्र निर्माण के क्षेत्र में आगे चल रहे बंगला देश से आगे एक लंबी लकीर खींचनी है. यह सब सरकार यहां की जनता के सहयोग से जरूर पूरा करेगी.

वस्त्र उद्योग में 80 प्रतिशत नौकरी युवतियों को : रघुवर दास-Panchayat Times

वस्त्र उद्योग में 80 प्रतिशत नौकरी युवतियों को

सीएम ने कहा कि झारखंड में लगातार वस्त्र उद्योग की इकाइयों की स्थापना हो रही है, जिसमें सरकार का ध्यान नारी सशक्तिकरण पर है. यही वजह है कि युवतियों को हुनरमंद बनाकर उन्हें रोजगार उपलब्ध कराया जा रहा है. वस्त्र उद्योग में 80 प्रतिशत नौकरी झारखंड की युवतियों व 20 प्रतिशत नौकरी युवाओं को मिलेगी. बुढ़मू में प्रारंभ हो रहे वस्त्र उद्योग के लिए प्रशिक्षण प्राप्त 600 बच्चियों को उद्योग भवन निर्माण नहीं होने तक कंपनी द्वारा रोजगार प्रदान किया जाएगा. इसके अलावा किशोर एक्सपोर्ट और यूरो सेफ्टी यूनिट की आधारशिला रखी जा चुकी है. क्षेत्र के 50 एकड़ भूमि पर इन तीन प्लांट के अतरिक्त करीब 10 यूनिट प्रारंभ करने की योजना पर कार्य हो रहा है, जिससे बेहतर रोजगार के साधन उपलब्ध होंगे. आप सभी यूं ही सरकार को सहयोग करते रहें. हम आपकी समृद्धि के वाहक बनेंगे. हर गरीब परिवार को रोजगार व स्वरोजगार देना वर्तमान सरकार का लक्ष्य है.

झारखंड के बने कपड़े राज्य का बढ़ाएंगे मान

यहां के हुनरमंद और ईमानदार मानव संसाधन की वजह से ही लगातार निवेशक निवेश कर रहे हैं. वस्त्र उद्योग में बने कपड़े यूरोप, अमेरिका, इंग्लैंड समेत अन्य देशों में निर्यात किया जाएगा. आप सभी प्रशिक्षण प्राप्त युवा पूरी ईमानदारी और लगन से काम करें. ताकि यहां के बने कपड़े और हुनरमंद युवाओं की कला राज्य का मान दुनिया में बढ़ा सके.
इस अवसर पर रांची सांसद संजय सेठ, कांके विधायक जीतू चरण राम, उद्योग सचिव के रवि कुमार, लगुना के प्रबंधक सर्वजीत घोष व अन्य उपस्थित थे.