WHO ने कोरोना वायरस को किया महामारी घोषित, जानिए भारत में इसका क्या है असर

WHO ने कोरोना वायरस को किया महामारी घोषित, जानिए भारत में इसका क्या है असर - Panchayat Times

नई दिल्ली. आधी से ज्यादा दुनिया में कोहराम मचा रहे कोरोना वायरस को अब विश्व स्वास्थ्य संगठन ने एक महामारी घोषित कर दिया है. चीन से शुरू हुई इस बीमारी ने दुनिया के 118 से ज्यादा देशों को अपनी चपेट में ले लिया है. वहीं भारत के लिए भी कोरोना किसी बड़ी समस्या से कम नहीं है. भारत सरकार अब इस बीमारी से निपटने के लिए पूरी तरह से कमर कस चुकी है.

विदेश से आने वाले लोगों का वीजा 15 अप्रैल तक के लिए सस्पेंड

भारत ने कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे को देखते हुए विदेश से आने वाले लोगों का वीजा 15 अप्रैल तक के लिए सस्पेंड कर दिया है. इस प्रतिबंध से राजनयिकों, अधिकारियों, सयुंक्त राष्ट्र संघ और अंतरराष्ट्रीय संगठनों के कर्मचारियों को छूट मिलेगी. यह प्रतिबंध 13 मार्च 2020 से ही लागू हो जाएगा.

सरकार ने फ्रांस, जर्मनी और स्पेन के नागरिकों के नियमित और ई-वीजा पर रोक लगा दी है. इससे पहले चीन, साउथ कोरिया, जापान, इटली पर भी ऐसी ही रोक लगाई गई थी.

भारतीय नागरिकों को सलाह दी गई है कि गैर जरूरी विदेशी यात्राएं न करें. अगर वे कहीं से भी यात्रा करके वापस लौटते हैं तो उन्हें कम से कम 14 दिन तक लोगों से अलग (Quarantine) रखा जा सकता है. चीन, इटली, ईरान, कोरिया, फ्रांस, स्पेन और जर्मनी में जो भी भारतीय या विदेशी यात्री 15 फरवरी तक रहे हों, उन्हें भारत आने पर कम से कम 14 दिन के लिए अलग मेडिकल निगरानी में रखा जाएगा.

अभी तक देश में 73 लोगों के इस वायरस से संक्रमित होने के मामले सामने आए हैं. संक्रमित लोगों में से एक समूह इटली के एक पर्यटक समूह के संपर्क में आया था, जिससे संक्रमित लोगों की संख्या में भारी इजाफा देखने को मिला.

WHO ने कोरोना वायरस को किया महामारी घोषित, जानिए भारत में इसका क्या है असर - Panchayat Times
Corona Virus Cases in India.

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना वायरस को किया महामारी घोषित

विश्व के लगभग सभी देशों की सेहत पर नजर रखने वाली विश्व की सबसे बड़ी संस्था विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कोरोना को महामारी इसलिए घोषित किया क्योंकि चीन के वुहान शहर में 31 दिसंबर 2019 पहला मामला सामने आने के महज 73 दिन में ये वायरस 118 से ज्यादा देशों में फैल चुका है.

कोरोना की महामारी कितनी खतरनाक है इसका अंदाजा इसी बात से लगा सकते हैं कि इसने पूरी दुनिया में अब तक 4,60 से ज्यादा लोगों की जान ले ली है. जिसमें से 3,200 लोगों की मौत अकेले चीन में ही हुई है.

बीते बुधवार को विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक टेड्रॉस एडहैनोम गीब्रेयसूस ने कोरोना वायरस को महामारी (Pandemic) घोषित करते हुए कहा कि “कोरोना वायरस जैसी महामारी आज से पहले हमने नहीं देखी.” वहीं दुनिया भर में अब तक कोरोना वायरस के 124,518 से अधिक मामलों की पुष्टि हुई है जिसमें से 4,607 लोगों की मौत हो चुकी है.

कब घोषित होती है महामारी?

कोई भी संक्रमण फैलाने वाली बीमारी इतनी आसानी से महामारी घोषित नहीं होती है. इससे पहले साल 2009 में स्वाइन फ्लू को महामारी घोषित किया गया था, जिससे लाखों लोग संक्रमित हुए थे. दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में अलग-अलग लोगों के बीच जब कोई संक्रमण फैलता है और जिसके खतरे का एक ही समय में दुनिया भर के लोग सामना कर रहे होते हैं. तो उसे महामारी घोषित किया जाता है. कोरोना की सबसे बड़ी चिंता इसके इलाज को लेकर है क्योंकि अब तक किसी भी देश के वैज्ञानिक इसका ईलाज ढूंढने में असमर्थ रहे हैं.

चीन के बाद ईरान और इटली सबसे ज्यादा प्रभावित

चीन के बाद ईरान और इटली में कोरोना ने सबसे ज्यादा कहर बरपाया है. इटली में तो महज 24 घंटे के अंदर 196 लोग कोरोना की वजह से दम तोड़ चुके हैं. यहां कोरोना से मरने वालों की संख्या 827 पहुंच चुकी है.

WHO ने कोरोना वायरस को किया महामारी घोषित, जानिए भारत में इसका क्या है असर - Panchayat Times

ईरान में भी इस जानलेवा वायरस की वजह से अब तक 350 से ज्यादा लोगों की मौत हुई है. हालांकि चीन का पड़ोसी होने के बाद भी भारत में कोरोना का बहुत ज्यादा प्रभाव नहीं दिखाई दे रहा है लेकिन बढ़ी तेजी से बढ़ रही संक्रमित लोगों की संख्या एक चिंता का विषय बन गई है.

भारत कोरोना वायरस महामारी से निपटने के लिए तैयार : विदेश मंत्री

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने गुरुवार को संसद को आश्वासन दिया कि भारत कोरोना वायरस महामारी से निपटने के लिए तैयार है. उन्होंने ईरान और इटली में भारतीय नागरिकों की स्थिति पर सदन को अवगत कराया. ईरान में स्थिति के संबंध में जयशंकर ने कहा कि दूतावास ने भारतीयों से संपर्क किया है ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि उनके पास पर्याप्त प्रावधानों का उपयोग हो. 

उन्होंने कहा कि ईरान के विभिन्न प्रांतों में लगभग 6,000 भारतीय नागरिक हैं, जिनमें से लगभग 1,000 जम्मू और कश्मीर और लद्दाख के तीर्थयात्री हैं. केरल, तमिलनाडु और गुजरात से लगभग 1,000 मछुआरे हैं, और 300 छात्र हैं.

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) की सलाह

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने और एशिया के सभी लोगों से कुछ एहतियात बरतने को कहा है. विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) कि ओर से जारी किए गए एहतियात को यूएन द्वारा ट्विटर पर शेयर किया गया है. आइए जानते हैं कोरोना वायरस से कैसे बचा जा सकता है.

WHO ने कोरोना वायरस को किया महामारी घोषित, जानिए भारत में इसका क्या है असर - Panchayat Times

संक्रमण को कम करने के उपाय

विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक, कोरोना वायरस से बचने के लिए अपने हाथों को साबुन, पानी या अल्कोहल युक्त हैंड रब से अच्छे से साफ करें. खांसते, छींकते वक्त नाक और मुंह को किसी टिश्यू या रूमाल से ढ़कें, क्योंकि यह वायरस छींक से भी फैलता है. जिन लोगों को सर्दी, खांसी, जुकाम, बुखार जैसी बीमारी है उनसे दूरी बनाकर रखें. अगर, घर में किसी को फ्लू जैसी समस्या हो तो उन्हें तुरंत दवाई दिलवाएं या डॉक्टर से संपर्क करें. अगर भोजन में चिकन, फिश, कच्चे मीट या अंडे का इस्तेमाल कर रहे हैं तो इसे अच्छे से पकाएं.