निर्माण मजदूर यूनियन कंपनी के खिलाफ मजदूरों ने खोला मोर्चा

श्री नैना देवी (बिलासपुर). श्री नैना देवी विधानसभा क्षेत्र के कैंचीमोड़ में किरतपुर नेरचौक फोरलेन निर्माण हो रहा है. जिसमें सीटू से, संबंध हिप्र भवन एवं सड़क निर्माण मजदूर यूनियन कैंचीमोड़ ने तीन वर्करों को बर्खास्त करने के विरोध में कंपनी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है.

प्रधान रविंद्र कुमार की अगवाई में 110 मजदूर धरने पर बैठ गए हैं. ये मजदूर कैंचीमोड़ टनल निर्माण कार्य में लगे हैं. मजदूर यूनियन के प्रधान रविंद्र कुमार का कहना है कि पहले तो 15 दिन तक कंपनी ने तीन मजदूरों को निलंबित कर दिया है.

लेकिन, सोमवार को अचानक कंपनी ने दमनकारी कार्रवाई करते हुए तीनों वर्करों को बर्खास्त कर दिया. काम से निकाले गए वर्करों में जसविंद्र सिंह और बलवीर सिंह दोनों चालक हैं. तीसरा अनिल कुमार है जो कंपनी में ऑपरेटर का काम करता है. तीनों मजदूरों के बर्खास्त करने की सूचना कंपनी ने कार्यालय के नोटिस बोर्ड पर लगा दी गई है.

कंपनी की इस दमनकारी कार्रवाई से गुस्साए मजदूरों ने कंपनी के गेट के आगे कैंचीमोड़ टनल के पास बेमियादी धरना और हड़ताल शुरू कर दी है. यूनियन के प्रधान रविंद्र कुमार ने बताया कि कंपनी मजदूरों का शोषण कर रही है. मजदूरों के मार्च महीने के वेतन का भुगतान कंपनी ने आज दिन तक नहीं किया है.

अगर मजदूर अपने हकों की मांग करता है या आवाज उठाता है, तो कंपनी की ओर से उसे बाहर का रास्ता दिखा दिया जाता है. कंपनी की ओर से श्रम कानूनों का सरेआम उल्लंघन किया जा रहा है.

साइमन इंफ्राक्रोप कंपनी कैंचीमोड़ में तैनात कार्यवाहक एचआर प्रबंधक रविंद्र ने बताया कि तीन वर्करों को कंपनी ने अनुशासनात्मक कार्रवाई करते हुए बर्खास्त कर दिया है.