श्रमिक संगठनों की देशव्यापी हड़ताल का झारखंड में मिला जुला असर

श्रमिक संगठनों की देशव्यापी हड़ताल का झारखंड में मिला जुला असर - Panchayat Times

रांची. श्रमिक संगठनों की ओर से बुलाए गए देशव्यापी हड़ताल का झारखंड में बुधवार की सुबह असर देखा जा रहा है. राज्य के सभी कोल सेक्टर ठप हैं. सभी खदानों में सन्नाटा पसरा हुआ है. कामगारों की हड़ताल के कारण कोल साइडिंग पर सैकड़ों ट्रक खड़े हैं. लदान मजदूरों ने अपनी मांगों के समर्थन में प्रदर्शन कर रहे हैं. राजधानी रांची, जमशेदपुर धनबाद समेत दूसरे शहरों में भी देशव्यापी हड़ताल का असर दिख रहा है. रांची में बैंकों के आगे ताले लटके रहे और पोस्ट ऑफिस बंद हैं. 

एसबीआई बैंक को छोड़कर अन्य बैंकों में कामकाज पूरी तरह से बंद है. सुबह से ही श्रमिक संगठनों का प्रदर्शन जारी है. पलामू जिला मुख्यालय के बाहर डाक कर्मचारियों ने धरना दिया. सरकार विरोधी नारे लगाए और न्यू पेंशन नीति वापस करने की मांग की. गिरिडीह में भाकपा माले समर्थक बुधवार को सड़क पर उतरे और सरकार के खिलाफ नारेबाजी की. कोडरमा जिले में थर्मल पावर प्लांट के समीप प्रदर्शन किया.

धनबाद और बोकारो जिले के बीसीसीएल नाला, झरिया, चास में हड़ताल का मिला जुला असर है. सीटू के महासचिव प्रकाश विप्लव ने बताया कि देशव्यापी हड़ताल का झारखंड के सभी जिलों में असर है. निर्माण कामगार पूरी तरह से हड़ताल पर हैं. राजमहल प्रोजेक्ट पूरी तरह से ठप हैं. लोहरदगा जिले में माइंस और बॉक्साइट ढुलाई का काम पूरी तरह से बंद है. एसबीआई को छोड़कर सभी बैंक पूरी तरह से बंद है. सेल्स रिप्रेजेंटेटिव (एमआर) पूरी तरह से हड़ताल में हैं.