होम ब्लॉग

ब्लॉग

साहिर लुधियानवी: जिनकी कलम में जज़्बात मिला हुआ था

साहिर लुधियानवी: जिनकी कलम में जज़्बात मिला हुआ था

आज जब देश में कई तरह की बहस चल रही है. सहिष्णु-असहिष्णु पर चर्चा हो रही है. कुछ फिल्मों और गानों पर पाबंदी की...
कमाई बढाने के उपाय

ऐसे करें सालभर में अपनी कमाई दोगुनी— गारंटेड

आजकल हर एक के मन में एक ही धुन सवार है वह अपनी कमाई को दोगुना कैसे सकें, यहां तक के देश केन्द्र की...

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़: चले भी आओ कि गुलशन का कारोबार चले

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ एक ऐसे शायर जिन्हें अंग्रेजी, उर्दू, फ़ारसी और अरबी ज़बान में महारथ हासिल थी. उन्होंने हिंदी, उर्दू, फ़ारसी और पंजाबी में...
बौखलाए पड़ोसी से निपटना मोदी सरकार के लिए बड़ी चुनौती

बौखलाए पड़ोसी से निपटना मोदी सरकार के लिए बड़ी चुनौती

एक के बदले 10 सिर लाने के नारे से सत्ता में आई बीजेपी सरकार असहाय नजर आ रही है. बीजेपी के सामने कठिन चुनौती...
कैसे दुबला-पतला सा गांधी बन गया अफ्रीक का 'गांधी भाई'

कैसे दुबला-पतला सा गांधी बन गया अफ्रीका का ‘गांधी भाई’

कहते हैं महात्मा गांधी के काले होने की वजह से उन्हें दक्षिण अफ्रीका में फर्स्ट क्लास डिब्बे में यात्रा नहीं करने दी गई. उन्हें...

राजपथ पर गूंंजेगी हिमाचल के बौद्ध मठों की मन्त्र ध्वनि

शिमला. इस साल गणतंत्र दिवस पर राजपथ पर की-गोम्पा की झलक दिखेगी. दिल्ली रक्षा मंत्रालय ने लगातार दूसरी बार हिमाचल से झांकी के मॉडल...

अलविदा 2017 : सिरदर्द बना उत्तर कोरिया, चर्चाओं में रहा एशिया

      चीन इस वर्ष भी पश्चिमी मीडिया के लिए ड्रैगन बना रहा और चीन लगभग वर्ष भर इसके कई वाजिब कारण भी...

अलविदा 2017 : वैश्विक मीडिया ने घर-घर पहुंचाई विश्व राजनीति और अन्य सुर्खियां

  अब जबकि पृथ्वी 2017 का अपना चक्कर पूरा ही करने वाली है, यह एक मुफीद समय है कि इस साल की विश्व-राजनीति को...

एक प्याली ताजगी की: अंतर्राष्ट्रीय चाय दिवस पर जानिए कहानी चाय की

एक अनुमान के मुताबिक़ भारत के लगभग तीन चौथाई लोगों की सुबह शुरू होती है एक प्याली चाय से. बहुत कम लोगों को पता...
अफराजुल हत्याकांड: चरित्रहीन है शंभूलाल, अवैध संबंध छुपाने के लिए की हत्या

राजसमंद ‘लव जिहाद’ केस : गुस्से में लिया बदला नहीं सोची-समझी साजिश है ये

राजसमंद लव-जिहाद केस झकझोरने वाला है. जिन्होंने भी यह वीडियो देखा वो कांप गए, जिन्होंने पूरा मामला जाना वो परेशान हैं. जिन्होंने नहीं देखा उनसे...

लोक​प्रिय