धर्मशाला. गगल एयरपोर्ट पर पहुंचने के बाद मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने मीडिया से बातचीत के दौरान कहा कि सरकार के गठन के बाद यह पहला सत्र है. धर्मशाला में सरकार, और उसमें विधानसभा के माननीय सदस्य जो है उन्हें शपथ दिलवाई जायेगी.  इस दौरान विधानसभा के अध्यक्ष और उपाध्यक्ष का चुनाव भी होगा.

जयराम ठाकुर आगे कहा कि चार दिन का यह सत्र यहां पर चलेगा और जो औपचारिकताएं है उन्हें पूरा किया जाएगा. उसके बाद सारी चीजें आगे बढ़ा दी जायेगी. सीयू की स्थापना के सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि इन सारी चीजों में उन्हें कोई जल्दबाजी नहीं है. हिमाचल की जनता ने जो दायित्व सौंपा है उसका वह पूरी तरह से निर्वाहन करेंगे. सारी बातों को ध्यान में रखते हुए सारे पक्षो को सुना जायेगा और फिर कोई निर्णय लिया जायेगा.

यह भी पढ़े: रमेश धवाला दिलाएंगे नवनिर्वाचित विधायकों को शपथ

सीएम ने एक और सवाल जो युवाओं की उम्मीदों को लेकर किया गया. इस बारे में मुख्यमंत्री ने कहा कि इस परिवर्तन से युवाओं को भारी उम्मीदें है और इस परिवर्तन के साथ बहुत ज्यादा हुई है. इस बात से हम सहमत है. युवाओं को संयम रखने की जरुरत है और हम युवाओं की भावनाओं का सम्मान करते है, युवाओं की भावनाओं की आहत नहीं किया जायेगा जो हम कर सकेंगे युवाओं के लिए किया जायेगा.

प्रोटेम स्पीकर के बयान पर दिया जवाब 

उन्होंने कहा कि बुजुर्गों के लिए पेंशन को लेकर पहले ही कैबिनेट अपना फैसला ले चुकी है. प्रोटेम स्पीकर के उस बयान के जबाव को टालते हुए सीएम ने कहा कि यह व्यवस्था है. जिसके तहत सत्र धर्मशाला में करवाया जा रहा है. प्रो टाइम सपीकर धवाला ने इस सत्र को धर्मशाला में करवाने को लेकर कहा था कि धर्मशाला में सत्र करवाना सरकारी पैसे का दुरुपुयोग है. इस पर सीएम ने कहा कि कुछ वर्षों से परम्परा कायम हुई है यह मात्र उसका निर्वहन किया जा रहा है.