राज्य के लगभग सभी जिलों को मिली स्वास्थ्य सुविधायें

शिमला. मंत्रिमण्डल ने सोलन जिला की अर्की तहसील के गांव देवरा, सिरमौर जिला की ग्राम पंचायत भुजोण्ड के गतलोग गांव तथा ग्राम पंचायत शामरा के देबड़घाट, कांगड़ा जिला की ग्राम पंचायत बल्ला के रसेहड़ गांव में आयुर्वेदिक स्वास्थ्य केन्द्र खोलने को अपनी मंजूरी प्रदान की है.

सोमवार को हुई बैठक में मंत्रिमण्डल ने मण्डी जिला के मसेरन में आवश्यक स्टाफ सहित तथा सोलन जिला के नौणी में प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र खोलने का भी निर्णय लिया. बैठक में निजी क्षेत्र में फिजियोथेरेपी में स्नातक का कोर्स आरम्भ करने का भी निर्णय लिया गया.

मंत्रिमण्डल ने स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग में नर्सिंग सैल (टीचिंग कैडर) स्थापित करने के लिए दो पद उप-निदेशक(नर्सिग) तथा प्रधानाचार्य नर्सिंग अधिकारी के सृजित करने का निर्णय लिया.

मंत्रिमण्डल द्वारा इंदिरा गांधी मेडिकल कालेज शिमला के कार्डियोलॉजी तथा आर्थोपैडिक्टस विभाग में एक पद प्रोफेसर तथा एक सहायक प्रोफेसर का पद सृजित करने को भी मंजूरी प्रदान की गई.

मंत्रिमण्डल ने राजकीय मेडिकल कालेज नाहन में पैथोलॉजी विभाग में सहायक प्रोफेसर का एक पद भरने को भी अपनी स्वीकृति प्रदान की.

मंत्रिमण्डल ने मण्डी जिला के धर्मपुर स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र धर्मपुर को 50 बिस्तरों वाले नागरिक अस्पताल में स्तरोन्नत करने को भी मंजूरी प्रदान की तथा साथ ही 6 पद भरने की भी स्वीकृति प्रदान की.

मंत्रिमण्डल ने मण्डी जिला के दारपा-बरकाटा में प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र खोलने तथा मण्डी जिला के ही धर्मपुर खण्ड के टीहरा स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र को सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में स्तरोन्नत करने को भी स्वीकृति प्रदान की.

बैठक में शिमला जिला के ग्राम पंचायत बढाल के बढाल गांव में दो पदों के सृजन सहित स्वास्थ्य उप-केन्द्र खोलने को स्वीकृति प्रदान की गई.

मंत्रिमण्डल ने हमीरपुर जिला के चबूतरा स्थित स्वास्थ्य उप-केन्द्र को प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में स्तरोन्नत करने तथा शिमला जिला की ग्राम पंचायत मातल के स्वास्थ्य उप-केन्द्र मातल को प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में आवश्यक पदों के सृजन सहित स्तरोन्नत करने को भी अपनी स्वीकृति प्रदान की.