झारखंड के 12,133 छात्रों को मिले 467.33 करोड़ का ऋण

दुमका. राज्य स्तरीय बैंकर्स समन्वय समिति की बैठक विकास आयुक्त अमित खरे की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई. विकास आयुक्त ने बताया कि पिछले एक वर्ष से राज्य का ऋण जमा अनुपात 58.2 फीसदी से बढ़कर 60.92 फीसदी हो गया है. राज्य में बैंक जमा एवं बैंक ऋण दोनों में वृद्धि हुई है. इसके साथ ही प्रायोरिटी सेक्टर एडवांस भी 54.07 फीसदी से बढ़कर 54.96 फीसदी हो गयी है.

खरे ने कहा कि प्रधानमंत्री मुद्रा योजना एवं शिक्षा ऋण योजना के अन्तर्गत राज्य में उल्लेखनीय सफलता मिली है. प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के अन्तर्गत 01.04.2017 से 31.12.2017 तक कुल 2,19,769 लोगों के बीच 2141 करोड़ का ऋण वितरित कर उन्हें स्वरोजगार से जोड़ा गया है. वहीं शिक्षा ऋण योजना के अन्तर्गत बैंकों से वर्तमान वित्तीय वर्ष में 12,133 विद्यार्थियों को 467.33 करोड़ रुपया का ऋण दिया गया जो विगत वित्तीय वर्ष की तुलना में 10 फीसदी अधिक है.
विकास आयुक्त ने निर्देश दिया कि कृषकों की आय दोगुनी करने के लिए कृषि ऋण प्रवाह को बढ़ायें तथा महिला सखी मंडलों को अधिक से अधिक ऋण प्रवाह से जोड़ें.

बैठक मेंसुखदेव सिंह, अपर मुख्य सचिव, सतेन्द्र सिंह, सचिव (व्यय),  महाप्रबंधक प्रसाद जोशी, रिजर्व बैंक, भारतीय स्टेट बैंक, बैंक आॅफ इंडिया समेत सभी बैंकों के वरीय पदाधिकारी तथा राज्य सरकार के पदाधिकारी मौजूद रहे.