अब स्कूलों में बनेंगे आधार, छात्रों को मिलेंगे डिजिटल लॉकर

शिमला. प्रदेश में सूचना प्रोद्यौगिकी के माध्यम से गुणात्मक शिक्षा प्रदान करना सरकार की प्राथमिकता है. प्रदेश का प्रत्येक छात्र सूचना प्रोद्यौगिकी से जुड़े, इसके लिए सरकार कृतसंकल्प है. यह बात शुक्रवार को शिक्षा, विधि व संसदीय मामले मंत्री सुरेश भारद्वाज ने राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला छोटा शिमला में प्रदेश सरकार की योजना आधार केंद्र का शुभारंभ करते हुए कही.

उन्होंने बताया कि इस योजना के तहत प्रथम चरण में 100 केंद्र स्थापित किए गए हैं, जिसके लिए सूचना प्रोद्यौगिकी विभाग ने आज 100 किट प्रदान किए. उन्होंने कहा कि इससे छात्रों को अपना आधार बनवाने, आधार अपडेशन, बायोमिट्रिक अपडेशन तथा अन्य अपडेशन की सुविधा मिलेगी. उन्होंने कहा कि आधार पंजीकरण के लिए बच्चों को उपायुक्त कार्यालय और लोकमित्र केंद्र जाना पड़ता था, इस सुविधा के माध्यम से वह अपना आधार कार्ड अपने स्कूल में ही बनवा सकते हैं.

छात्रों को मिलेंगे डिजिटल लाॅकर

उन्होंने बताया कि इसके माध्यम से प्रदेश में बच्चों के आधार पंजीकरण की प्रतिशतता भी बढ़ेगी. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री की परिकल्पना के अनुरूप सूचना प्रोद्यौगिकी और डिजिटल तकनीक को और अधिक बढ़ावा मिले, इसके लिए यह मील पत्थर साबित होगी.

उन्होंने कहा कि प्रदेश में स्कूलों में छात्रों को डिजिटल लाॅकर उपलब्ध करवाने के लिए भी प्रयास किया जा रहा है. इसके अतिरिक्त 10 व जमा दो छात्रों को विभिन्न प्रकार के आॅनलाईन प्रमाण-पत्र की सुविधा भी प्रदान की जा रही है.

2037 स्कूलों में आईसीटी की सुविधा

शिक्षा मंत्री ने कहा कि प्रदेश के 2759 उच्च व वरिष्ठ माध्यमिक पाठशालाओं में से 2037 स्कूलों में आईसीटी की सुविधा उपलब्ध है. अन्य विद्यालयों में भी इस सुविधा की उपलब्धता सुनिश्चित की जाएगी. उन्होंने कहा कि छात्र अधिक से अधिक इस तकनीक का उपयोग करें.

शिक्षा मंत्री ने राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला छोटा शिमला को माॅडल स्कूल बनाए जाने की घोषणा की.

इस अवसर पर कृषि, जनजातीय विकास व सूचना प्रौद्योगिकी मन्त्री डाॅ. राम लाल मारकण्डा ने बताया कि प्रदेश में 800 लैपटाॅप आंगनबाड़ियों को दिए गए हैं, ताकि पांच साल से छोटे बच्चों का आधार पंजीकरण पूरा किया जाए. इसके अतिरिक्त 200 लैपटाॅप विभिन्न अस्पतालों को भी दिए गए हैं. उन्होंने कहा कि 70 साल से अधिक आयु के वृद्धजनों के लिए आधार कार्ड में केवल फोटो देखकर सार्वजनिक वितरण प्रणाली की सुविधा प्रदान करने का प्रावधान किया गया है.

सूचना प्रोद्योगिकी तकनीक के उपयोग को मिलेगा बढ़ावा

सूचना प्रोद्यौगिकी एवं कृषि मंत्री ने कहा कि प्रदेश में लोग अधिक से अधिक सूचना प्रोद्योगिकी तकनीक का उपयोग करें तथा प्रदेश सरकार की विभिन्न योजनाओं का लाभ सूचना प्रोद्योगिकी के माध्यम से देने के लिए सुविधाएं उपलब्ध करवाई जा रही है.

मौके पर कृषि, जनजातीय विकास व सूचना प्रौद्योगिकी मन्त्री डाॅ. राम लाल मारकण्डा, निदेशक सूचना प्रोद्योगिकी रोहन चंद ठाकुर, निदेशक उच्च शिक्षा डाॅ. अमर देव, निदेशक प्रारम्भिक शिक्षा मनमोहन शर्मा, राज्य परियोजना निदेशक सर्व शिक्षा अभियान व आरएमएसए आशीष कोहली, विशेष कार्य अधिकारी डाॅ. मामराज पुंडीर, स्कूल के प्रधानाचार्य डाॅ. रतन वर्मा मौजूद रहे.

‘एक्जाम वाॅरियर’ प्रदेश के सभी स्कूलों में मिलेंगे

 

शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज ने राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला छोटा शिमला में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘परीक्षा पर चर्चा’ कार्यक्रम का सीधे प्रसारण के माध्यम से अवलोकन किया.

उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि प्रधानमंत्री के इस विषय पर की गई चर्चा पर सभी चिंतन व मनन करें. अध्यापकों, शिक्षा प्रशासकों व बच्चों के साथ-साथ अभिभावक भी प्रधानमंत्री द्वारा सुझाए गए मार्ग को आत्मसात करें. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री द्वारा दिए गए सुझाव न केवल चिंतन व मनन का विषय है, बल्कि दैनिक जीवन में इसे अपनाकर किसी भी क्षेत्र में मानसिक दबाव के बिना सफलता प्राप्त की जा सकती है.

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री लिखित पुस्तक ‘एक्जाम वाॅरियर’ प्रदेश के सभी विद्यालयों के पुस्तकालयों में उपलब्ध करवाई जाएंगी, ताकि छात्र इन्हें पढ़कर लाभ उठा सके.

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री के अमूल्य सुझाव देश की युवा पीढ़ी व छात्रों का न केवल मार्गदर्शन करेंगे, बल्कि उन्हें जीवन में उच्च मूल्य स्थापित करने के लिए भी प्रेरित करेंगे.